मंगलवार, 13 जून 2017

धर्म परिवर्तन ( कहानी)

कहानी
"ये पंडित जी को क्या हो गया ? बुढ़ापे में साठिया गए जो ईसाई धर्म अपना लिया।" मोहल्ले में सब पंडित जी की थू - थू कर  रहे थे। पूरा बामन मोहल्ला पंडितजी के धर्म परिवर्तन को ले कर तरह तरह की बाते बना रहा था । मगर पंडित जी इन सब बातों की कोई फिक्र न थी।
पंडित जी से मेरी मुलाकात सिर्फ साल भर पहले की थी। पिछले साल जनवरी में , मैं जोधपुर तबादले पर आया था । तो सरकारी क्वाटर मिला नही था। जिस वजह से मुझे पंडित जी के घर मे रेंट पर रहना पड़ा। पंडित जी एक  दम शुद्ध शाकाहारी । मुझे आते ही फरमान सुना दिया कि देखो भाई ज्यादा तर फौजी सर्वाहारी होते हैं, मगर जब तक आप लोग इस घर में रहेंगे कुछ भी तामसिक भोजन नही करेंगे। मैं भी ठहरा शुद्ध ब्राह्मण जो लहसुन प्याज भी न छुए। पंडित जी का घर दोमंजिला था । जिसमें से दो कमरे उन्होंने किराये पर उठा दिए थे, बाकी का घर वो ख़ुद और खुद के बच्चों के लिए रखते थे। पंडित जी सरकारी स्कूल मास्टर थे। सो कुछ उनकी पेंशन आ जाती थी ।पिछले साल जब में जोधपुर आया था तब उनके घर पर सिर्फ सात बच्चे थे। मगर पिछले साल में उनके घर मे 16 बच्चे हो गए । जिनका खर्च शायद पेंशन से न चल पाता होगा इस लिए उन्होंने नीचे की अपनी बैठक और खुद का कमरा भी किराये पर उठा दिया। पंडित जी अपने बच्चों के लिए कुछ भी कर सकते थे। ये बच्चे थे ही इतने प्यारे। इन बच्चों में कुछ की उम्र 5-7 वर्ष की और कुछ 3-4 वर्ष के और चार बच्चे 0- 2 वर्ष के थे। इनमे ज्यादातार लड़किया  
थीं। अभी कुछ ही दिन हुए थे उस बात को मुझे अच्छे से याद है मैं ड्यूटी से देर रात लौटा था शायद ग्यारह साढ़े ग्यारह का वक़्त रहा होगा। पंडित जी घर के बाहर ही हाथ मे खून से लथपथ एक नवजात को लेकर खड़े थे । नवजात शिशु गंदे से कपड़े में लिपटा था । मेरी कार को सामने से रोक कर खड़े हो गए ।मैं उस दृश्य को देख के बहुत घबरा गया था। मेरी जगह शायद कोई भी इंसान होता वो भी शायद ऐसा ही रिएक्ट करता । एक पल को तो जैसे मेरे दिमाग ने काम करना ही बंद कर दिया। तभी वे कार में बैठ गए। और तुरंत हॉस्पिटल चलने के लिए बोलने लगे। मैं पास ही के हॉस्पिटल में लेकर गया। वहां डॉक्टरों ने तुरंत उस शिशु का इलाज करना शुरू कर दिया,उसकी हालत बहुत नाजुक थी। पंडित जी  को वो पार्क में उस वक़्त मिली जब  वे सब बच्चो को खाना  खिला कर पार्क में टहलने गए थे। तभी उन्हें उस कन्या शिशु की चीत्कार सुनाई पड़ी, कुछ आवारा कुत्ते उस बच्ची को अपने पंजो से खसोट रहे थे। पंडित जी ने दौड़ कर उस को जैसे तैसे कर कुत्तों से बचाया। कुत्तों के मुँह से उनका नरम नरम भोजन छिनना आसान न था। कुत्तो ने पंडित जी पर हमला कर दिया। बेचारा एक बूढ़ा आदमी कुत्तों का शिकार बन गया। आखिर दो हफ़्तों बाद बच्ची को डिस्चार्ज कर दिया गया । वो अब ठीक थी। पंडित जी भी ठीक हो गए मगर इन 15 दिनों तक वे कितने परेशान रहे कि न उन्होंने ढंग से खाना खाया न ही चैन से सोये। बस पूरे पूरे दिन वे अपने घर के मंदिर में अपने बच्चों के साथ भगवान के सामने बैठ कर  उस बच्ची के लिए प्रार्थना करते रहते। आखिर ईश्वर ने उनकी सुन ही ली।  मगर एक हफ्ते बाद पंडित जी ने घर का मंदिर हटा दिया और घर के बाहर कृष्णा कुटी की जगह क्राइस्ट कॉटेज लिखवा दिया । मुझे पता चला कि उस बच्ची के इलाज में बहुत खर्चा हो गया था। उनके पास इतना पैसा नही था ।कई लोन कंपनियों से कोशिश की मगर शायद पंडित जी उनकी शर्तो को पूरा नही कर सकते थे और न    सब कुछ दाब पर लगा सकते थे वो क्योंकि उन्हें अपने दूसरे सोलह  बच्चों का भी सोचना था और आखिर   उन्होंने खुद का नाम बदल लिया था ।  एक मिशनरी से उन्हें सहायता मिल गई थी। मगर यू ही तो कुछ नही मिलता। इंसान का नाम बदलने से इंसान थोड़े बदल जायेगा। मगर दुनिया को कौन समझाए ।

बुधवार, 12 अप्रैल 2017

इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों से आगे : ऑनलाइन वोटिंग का विकल्प



       इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों का मुद्दा जिस प्रकार से भारतीय राजनीति में छाया हुआ है उस से एसा लगता है भारतीय नेताओं एक बार फिर से विचार कर लेना चाहिए की क्या वे सिर्फ अपनी निजी चिंताओं के प्रति जागरूक हैं या फिर देश के विषय में भी सोचते हैं. आप को बता दें कि इन मशीनों की सुरक्षा में कई सिविल अधिकारी, कई अध्यापक या राज्य के वे कर्मचारी जो बिना किसी प्री-प्लानिग के नियुक्त होतें हैं तथा अर्ध सैनिक बल के साथ-साथ प्रादेशिक पुलिस रहती है. इतने बड़े सुरक्षा बेड़े में सेंध लगाना किसी भी मास्टर माइंड के लिए असंभव है. जहाँ तक पहले के ज़माने में जो बैलेट सिस्टम चलता था उसमे गड़बड़ियो की सम्भावना बहुत ज्यादा होती थी. ये सब जानकारियां मुझे मेरे पिता से प्राप्त हुईं जिन्होंने अपनी नियुक्ति के दौरान अनेकों चुनावों में पोलिंग बूथ के सञ्चालन में भागीदारी निभाई. बैलेट सिस्टम में यदि आप एक बैलेट पैड किसी तरीके से चुरा लेते हो तो एक एक मतदाता मनचाहे वोट डाल सकता था. यह काम बहुत ही आसान होता था. और इसके बारे में विरोधी दलों को शायद ही भनक लग पाती थी. यदि कोई वोटिंग मशीनों के साथ छेड़छाड़ कर सकता है जो की भारी सुरक्षा में रहती हैं. तो फिर पुरानी बैलेट सिस्टम ही कहाँ सुरक्षित रहेगा. और फिर एक तरफ तो हम डिजिटल इंडिया की बात करें और दूसरी तरफ हम पुरातनता की बात करें तो यह दोगलापन तो सिर्फ भारत में ही देखने को मिल सकता है. जिस देश में छात्रो की उत्तर पुस्तिकाएं कंप्यूटर से जांची जाती हैं. जहाँ बैंक पुर्णतः इन्टरनेट से जुड़े हैं. जहाँ सब कुछ ऑनलाइन होने जा रहा है, वहां मेरी सलाह है कि वोटिंग भी ऑनलाइन हो. क्या हम प्रत्येक मतदाता को उसके आधार नंबर से जोड़कर उस से मतदान नहीं करवा सकते? क्या OTP के माध्यम यह सब संभव नहीं है? क्या चुनाव आयोग के योग्य पदाधिकारी इस पर विचार नहीं कर सकते? इसे एक विकल्प के रूप में रखा जाये जैसे लोग मनुअल बैंकिंग के साथ साथ ऑनलाइन बैंकिंग का आप्शन चुनते हैं. उसी तरह ऑनलाइन वोटिंग का विकल्प भी होना चाहिए फिर देखिये भारत में युवा मतदाता कैसे वोटिंग एप्प का सदुपयोग करते हैं. जय हिन्द.

धर्म परिवर्तन ( कहानी)

कहानी "ये पंडित जी को क्या हो गया ? बुढ़ापे में साठिया गए जो ईसाई धर्म अपना लिया।" मोहल्ले में सब पंडित जी की थू - थू कर  रहे थे।...