एक पल का साथ

एक पल का साथ अपना ,

गम अगर लो बाँट अपना ,

तो दिलों का बोझ भी हल्का लगेगा ,

फिर दिलों को ग़ैर भी अपना लगेगा ,

किन्तु अगले पल बिछुड़ना भी पड़ेगा,

याद आयेगी तुम्हारी फिर अकेले में,

रो परेंगी यों ही ऑंखें फिर अकेले में ,

आंसुओं कि कुछ लकीरें बन ही जायेंगी ,

रोकने पर हिल्कियां तो आ ही जाएँगी ,

किन्तु तुम्हारी यादें तो हैं जो हमेशा याद आएँगी ,

अकेले में या कि हज़ारों कि महफिल में ,

तुम्हारी यादें ....... हाँ ..... तुम्हारी यादें ।

यादें .......

उस एक पल की.......




टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी एक मात्र एसा साधन है जिस से पाठक अपने मन की बात लेखक से कह सकता है.इसलिए हे मेरे परम आदरणीय पाठक मित्र! आप को मेरा ब्लॉग और उसमें लिखी बात कैसी लगी,जरा यहाँ नीचे लिख दीजियेगा ,अपने नाम के साथ.और हाँ !अगर आप भंड़ास भी निकालना चाहतें हैं तो निकाल सकतें हैं.आप हमारे लिए महत्त्वपूर्ण हैं-सच में

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिंदी का बढ़ता दायरा

धर्म परिवर्तन ( कहानी)

वीक ट्रेनी (week trainee) -